News

Centre Launches National Helpline 155260 to Prevent Cyber Fraud

New Delhi: The Union Home Ministry has launched national helpline 155260 and reporting platform for preventing financial loss due to cyber fraud.

The national helpline and reporting platform provide a mechanism for persons cheated in cyber frauds to report such cases to prevent loss of their hard-earned money, a ministry statement said.

Source: Times Of India

WeSeSo News Analysis

What You Should Know

  • If you are a victim of cyber fraud, call on helpline number 155260.
  • You will get an SMS with an acknowledgement number of the complaint and direction to submit complete details of the fraud on the national cybercrime reporting portal (https://cybercrime.gov.in/) within 24 hours, using the acknowledgement number.
  • Upload all details on cybercrime portal within 24 hours.
  • Track the status of your complaint.

WeSeSo Analysis: How The System Works

  • The police operator shall note down the fraud transaction details and basic personal information and submit them in the form of a ticket on a central Management System.
  • This ticket is escalated to banks, wallets, merchants etc, depending on whether these are the victim’s bank or the bank or wallet in which the defrauded money has gone.
  • The bank concerned, which can now see the ticket on its dashboard on the reporting portal, checks the details in its internal systems.
  • If the defrauded money is still available, the bank puts it on hold, that is, the fraudster cannot withdraw the money.
  • If the fraudulent money is transferred to another bank, the information is passed on to the next bank.
  • This process is repeated till the money does not escape from reaching the hands of the fraudsters.

 

Prepared By: Cyber warriors of WeSeSo

0 30

साइबर धोखाधड़ी को रोकने के लिए केंद्र ने राष्ट्रीय हेल्पलाइन 155260 शुरू की

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्रालय ने साइबर धोखाधड़ी के कारण होने वाले वित्तीय नुकसान को रोकने के लिए राष्ट्रीय हेल्पलाइन 155260 और रिपोर्टिंग प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है।

मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि राष्ट्रीय हेल्पलाइन  साइबर धोखाधड़ी में ठगे गए व्यक्तियों को ऐसे मामलों की रिपोर्ट करने के लिए एक प्लेटफार्म प्रदान करता है ताकि उनकी गाढ़ी कमाई को नुकसान से बचाया जा सके।

 

स्रोत: टीओआई

 

WeSeSo समाचार विश्लेषण

आपको क्या पता होना चाहिए

अगर आप साइबर धोखाधड़ी के शिकार हैं तो तुरंत हेल्पलाइन नंबर 155260 पर कॉल करें।

आपको शिकायत की पावती संख्या के साथ एक एसएमएस मिलेगा

पावती संख्या का उपयोग करके 24 घंटे के भीतर राष्ट्रीय साइबर अपराध रिपोर्टिंग पोर्टल (https://cybercrime.gov.in/) पर धोखाधड़ी का पूरा विवरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया जाएगा।

24 घंटे के भीतर साइबर क्राइम पोर्टल पर सभी विवरण अपलोड करें।

अपनी शिकायत की स्थिति को ट्रैक करें।

सिस्टम कैसे काम करता है

  • पुलिस ऑपरेटर धोखाधड़ी लेनदेन का विवरण और शिकायत कर्ता की  व्यक्तिगत जानकारी को नोट करेगा और तुरंत  एक केंद्रीय प्रबंधन प्रणाली पर सूचित करेगा
  • यह सूचना उस  बैंक, वॉलेट, मर्चेंट आदि को दिया जाता है, जिसमे पीड़ित का बैंक है या जिसमे  धोखाधड़ी का पैसा गया है।
  • संबंधित बैंक भुगतान करने से पहले इस सूचना की जांच करता है।
  • यदि धोखाधड़ी का पैसा दूसरे बैंक में चला गया है, तो सूचना अगले बैंक में चली जाती है।
  • यह प्रक्रिया तब तक दोहराई जाती है जब तक कि पैसा धोखेबाजों के हाथों तक पहुंचने से नहीं बच जाता।
  • इस पहल का उद्देश्य धोखेबाज द्वारा वापस लेने से पहले धोखाधड़ी वाले धन को ट्रैक करना और रोकना है।

 

(WeSeSo  के साइबर योद्धा द्वारा तैयार)

0 30