News

Alwar cops bust sextortion racket

News

JAIPUR/ALWAR: Alwar police arrested eight members of a ‘sextortion’ gang that targeted people including an Indian man settled in Texas in the US. The accused had extorted nearly Rs 15 crore from different people by blackmailing them.
Alwar SP Tejswani Gautam said police had learned that a few suspects were blackmailing people through porn clips and a special team was set up to probe into the matter.
A police constable ran a decoy operation and soon came into contact with one of the accused masquerading as a woman. The accused demanded Rs 10,000 from the constable, following which a person was sent near Roopbas flyover in Alwar. Police seized his mobile phone and found that messages and the video calls sent to the constable were from the same SIM.

Modus Operandi

A gang member would masquerade as a beautiful woman on social media sites to befriend potential targets. Casual online flirting soon turns into bolder chatting till numbers are exchanged on WhatsApp. The next bait is porn where the victim thinks the person in the clip is the ‘woman’ he is chatting with and invariably gets tricked into indulging in a sex act that is recorded. The accused then begins to blackmail the victim, demanding hefty money in multiple tranches.

WeSeSo Advice

  • Never make any stranger your friend in social media.
  • Any offer that is too tempting is generally too deceiving.
  • In case you receive such tempting offers just ignore them.
  • Never share your mobile number or other private information on social media or any unknown person.
  • In case you get trapped in such situation, don’t make payment. The greed will never finish and extortion will continue. It is better to report to cybercrime portal.

WeSeSo Learning Foundation, a non-profit organization, aims to make a cyber-safe society with school students as the Agents of Change. If you find it useful then share it with others and help us secure the society because our motto is – We Secure Society.

0 184

अलवर पुलिस ने सेक्सटॉर्शन रैकेट का भंडाफोड़ किया

समाचार

जयपुर/अलवर: अलवर पुलिस ने अमेरिका में टेक्सास में बसे एक भारतीय व्यक्ति सहित कई लोगों को निशाना बनाने वाले 'सेक्सटॉर्शन' गिरोह के आठ सदस्यों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने अलग-अलग लोगों को ब्लैकमेल कर करीब 15 करोड़ रुपये की वसूली  की थी।

अलवर के एसपी तेजस्वनी गौतम ने कहा कि पुलिस को पता चला है कि कुछ संदिग्ध अश्लील क्लिप के जरिए लोगों को ब्लैकमेल कर रहे थे और मामले की जांच के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया था।

एक पुलिस कांस्टेबल ने एक ऑपरेशन चलाया और जल्द ही  आरोपी (जो एक महिला के रूप में सोशल मीडिया पर दोस्त बनाता था), के संपर्क में आया। कांस्टेबल के जानकर फंसने के बाद आरोपी ने कांस्टेबल से 10 हजार रुपये की मांग की, जिसे लेने के लिए एक  व्यक्ति अलवर में रूपबास फ्लाईओवर के पास आया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर उसका मोबाइल फोन जब्त कर लिया और पाया कि कांस्टेबल को भेजे गए संदेश और वीडियो कॉल एक ही सिम से थे।

काम करने का ढंग

संभावित लक्ष्यों से दोस्ती करने के लिए गिरोह का एक सदस्य सोशल मीडिया साइटों पर एक खूबसूरत महिला के रूप में सामने आता है और फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजता है । सुन्दर युवती से दोस्ती करने की इच्छा से कुछ लोग उसके फ्रेंड रिक्वेस्ट को स्वीकार कर लेते हैं।  फिर दोनों में चैट शुरू होती है और जल्द ही बोल्ड चैटिंग में बदल जाती है।  जब तक व्हाट्सएप पर नंबरों का आदान-प्रदान नहीं हो जाता, तब तक आकस्मिक ऑनलाइन छेड़खानी भी होती है । अगला चारा पोर्न है जहां पीड़ित को लगता है कि उस 'महिला' द्वारा भेजे गए  क्लिप में वही है जिसके साथ वह चैट कर रहा है।  फिर उसे भी अपना शरीर दिखाने को कहा जाता है और भाव भंगिमा के सात उसकी रिकॉर्डिंग कर ली जाती है।   इसके बाद आरोपी कई किश्तों में मोटी रकम की मांग करते हुए पीड़ित को ब्लैकमेल करना शुरू कर देता है।

WeSeSo सलाह

सोशल मीडिया पर कभी भी किसी अजनबी को अपना दोस्त न बनाएं।

कोई भी प्रस्ताव जो बहुत लुभावना होता है वह आमतौर पर बहुत धोखा देने वाला होता है।

यदि आपको ऐसे लुभावने प्रस्ताव मिलते हैं तो उन्हें अनदेखा कर दें।

कभी भी अपना मोबाइल नंबर या अन्य निजी जानकारी सोशल मीडिया पर  या किसी अनजान व्यक्ति से  साझा न करें।

यदि आप ब्लैकमेल जैसी स्थिति में फंस जाते हैं, तो भुगतान न करें। लालच कभी खत्म नहीं होगा और वसूली के लिए वे बारबार आपको संपर्क करेंगे।  । साइबर क्राइम पोर्टल पर तुरत रिपोर्ट करें।

WeSeSo Learning Foundation, एक गैर-लाभकारी संगठन, का उद्देश्य स्कूली छात्रों को परिवर्तन के एजेंट के रूप में साइबर-सुरक्षित समाज बनाना है। यदि आपको यह उपयोगी लगे तो इसे दूसरों के साथ साझा करें और समाज को सुरक्षित करने में हमारी मदद करें क्योंकि हमारा आदर्श वाक्य है - वी सिक्योर सोसाइटी

0 184