Blog

Dangers of online grooming and protection mantra

Thousands of children have been subjected to online grooming all around the world. Grooming is a dangerous process in which cyber predators target young children and, in most cases, groom them with an intention to exploit them sexually or harm them. Cyber Predators are grooming children online via social media platform Facebook, Instagram, WhatsApp etc. There is sharp increase in online grooming crime this year due to the unique situation caused by Covid-19. It is time for all the parents and children to understand the modus operandi of such predators, protect their children and alert the agencies. In this article we will understand the grooming processes, stages and protection mantra from cyber grooming.

 

Contributors:

  • Keisha, Delhi Public School, Pune
  • Riya Singh, Navy Children School, Kochi
  • Apeksha Maurya, DAV Public School, Jasola Vihar, New Delhi
  • Mallika Srivastav, DAV Public School, Jasola Vihar, New Delhi
  • Nikhil, DAV Public School, Jasola Vihar, New Delhi
  • Rashi Gupta, DAV Public School, Jasola Vihar, New Delhi
  • Shruti Kumari, DAV public School Jasola Vihar New Delhi

 

What is grooming?

Grooming refers to an act that deliberately aimed to establish an emotional connection and trust with a child or young person in order to cheat and trap them in committing forgery or sexual exploitation. It is an act where the predator targets a child online, build a virtual relationship, gain child’s trust and exploit the child.  As the children get trapped, they find themselves powerless, scared, shamed and helpless to such an extent that they even commit suicide.

Incident:

A 15 yrs old girl name Amy (not a real name) was bullied by her classmates in school and could not make any friend. She was lonely and due to continuous bullying in schools she found difficult to mix up with other people. She started using social networking site to make some virtual friends. In very quick time she was able to make many friends online. She used to accept online friend request from strangers. She found one of the friends, another 15-year girl to be very caring, friendly and jovial. She shared all her worries and so was the friend. Soon both started exchanging pictures of each other. Gradually both started sharing ‘how they are growing pictures’ with topless photographs.  Soon, her new friend started blackmailing her to meet her personally and threatened that if she does not meet, her nude pictures would be posted on Facebook and other social media platforms. After two days, she found her picture on Facebook with her name and picture. Thankfully, she shared this ordeal with her mom. Soon her parents reported the matter to police. During the investigation it was found that Amy’s new friend was not a girl, it was actually a middle-aged man who had created a fake profile of 15 years of girl and added some unknown girl’s picture in her post and profile. Amy was lucky and the groomer was caught on time before any further damage was done to Amy. But there are hundreds of incidents wherein the child felt shamed and committed suicide or surrendered for exploitation.

Few of the comments from such victims that were published in recent years is an eye-opener:

 

 

Stages of grooming:

Cyber grooming happens in stages when one stage is completed cyber predator moves on to next stage and keep tricking the victim until the last stage is completed which is ultimately the exploitation of the victim. The grooming stages are as follows:

Stage 1: Connect:

  • Predator makes Fake profile
  • Collects info of victim from online profile or chat
  • Send friend request to victim from fake profile
  • Start friendly conversation
  • Systematically pretends to have common interests

 

Stage 2: Establish Trust 

  • Develops trust
  • Supports child's point of view regarding conflicts
  • Exploits family, school, or friend friction
  • Acts like he is the only person who understands the child
  • Becomes an IM or chat buddy

 

Stage 3: Establish Secrecy

  • Establishes secrecy
  • Exchange email addresses or phone numbers
  • Parents kept in the dark Child may use secret email address
  • Adult-oriented materials and language may be used

 

Stage 4: Desensitize Shyness

  • Erodes barriers
  • Frequent adult-oriented conversations
  • Sends pornographic images to the child.
  • Convince child this is normal and everyone does such things
  • Child’s adult “experiences” are encouraged
  • Natural curiosity exploited
  • Personal inhibitions desensitized

 

Stage 5: Direct intimidation

  • Child’s emotional distance from parent increasing
  • Can be blackmailed easily
  • Threats of violence or public humiliation
  • Child feels increasingly powerless

 

Final Stage: Byte the Prey

  • Face to face meeting
  • The ultimate goal of the predator fulfilled
  • Not all predators use entire grooming process
  • Victim may meet predator willingly

 

Danger Signs of ‘Groomed’ Child:

The grooming process and methods are different. The whole process depends on victim’s social and mental condition, his/her family environment. After assessing victim’s situations cyber predator places his/her bet. These predators are very skilled in deceiving the children. However, few are the most common signs which can alert any person to know if the child is being groomed:

  • Asking to keep conversations with him as secret
  • Asking to share personal information or family pictures
  • Asking to send your pictures or any private information
  • Asking meet alone and threatening if denied
  • Telling negative things about the world and your parents and family
  • Showing he/she is the only well wisher
  • Starts blackmailing

 

Protection Mantra for Children:

  • Use only those online platform and social media your parents and friends are aware about and added in your friend list.
  • If you find anything uncomfortable, don’t hesitate to tell your parents, sibling, teacher or your guardian
  • Never accept any friend request from any unknown person.
  • Never share your personal information and picture online
  • Be careful while sharing or tagging your picture on social media
  • Never accept any gift or coupon from strangers and the person you have meet on virtual platform
  • Never put your personal information on social media.
  • Whenever you feel uncomfortable with any demand or help from the ‘friend’, share it with your parents.

 

Protection Mantra for Parents  to save their children:

  • Have at least one meal with your children
  • Observe their change in behaviour – loss of taste and appetite, loneliness, falling performance in school etc.
  • In stead of confronting the children, be friendly and allow space for them to share their problems.
  • Share the incidents of grooming with children and encourage them to share the protection mantra. After all they are more tech-savvy than their older generations.
  • Set up some discipline about Internet time after discussion with children and keep an eye on any deviation.

 

Conclusion:

Cyber grooming is a real danger especially for adolescent children when they surf Internet. The intensity of trauma in victim is so high that majority of them commit suicide. It is essential for us to recognise this as a big evil of cyber world and fight it out collectively. The protection mantra lies in our understanding of the modus operandi and a friendly environment at home to discuss them regularly with children.

 

Weseso is a non-profit organization which works for cyber safety of the society with students as agents of change.

To learn more about cyber security read weseso blogs, written by students from different schools. You can also write blogs and take part in various knowledge sharing discussion. To get involved, you first need to become a cyber warrior and become a part of larger community who are committed to secure family, friends and society from cyber crime.
To know how to become a cyber warrior, click the link: https://weseso.org/how-to-become-a-cyber-warrior/

 

 

0 1

ऑनलाइन ग्रूमिंग के खतरे और सुरक्षा मंत्र !!

दुनिया भर में हजारों बच्चों को  ऑनलाइन माध्यम से शोषण करने के लिए गिरफ्त में लिया जा रहा है । यह एक खतरनाक प्रक्रिया है जिसमें साइबर शिकारी छोटे बच्चों को निशाना बनाते हैं और ज्यादातर मामलों में उन्हें यौन शोषण करने या उन्हें नुकसान पहुंचाने के इरादे से तैयार करते हैं। साइबर शिकारी  सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप आदि के माध्यम से बच्चों को ऑनलाइन निशाना बना रहे हैं। कोविद -19 के कारण हुई अनोखी स्थिति के कारण इस साल ऑनलाइन ग्रूमिंग अपराध में तेजी से  वृद्धि हुई है। यह सभी माता-पिता और बच्चों के लिए ऐसे शिकारियों को खोजने, एजेंसियों को सतर्क करने और सुरक्षित रहने का समय है। इस लेख में हम साइबर ग्रूमिंग  के तरीकों, चरणों और सुरक्षा मंत्र को समझेंगे।

 

योगदान:

  • कीशा, दिल्ली पब्लिक स्कूल, पुणे
  • रिया सिंह, नेवी चिल्ड्रेन स्कूल, कोच्चि
  • अपेक्षा मौर्य, डीएवी पब्लिक स्कूल, जसोला विहार, नई दिल्ली
  • मल्लिका श्रीवास्तव, डीएवी पब्लिक स्कूल, जसोला विहार, नई दिल्ली
  • निखिल, डीएवी पब्लिक स्कूल, जसोला विहार, नई दिल्ली
  • राशी गुप्ता, डीएवी पब्लिक स्कूल, जसोला विहार, नई दिल्ली
  • श्रुति कुमारी, डीएवी पब्लिक स्कूल जसोला विहार नई दिल्ली

 

क्या है साइबर ग्रूमिंग?

ग्रूमिंग एक ऐसे कार्य  को संदर्भित करता है, जो जानबूझकर यौन व्यवहार या शोषण में संलग्न होने की संभावना को बढ़ाने के लिए एक बच्चे या युवा व्यक्ति के साथ भावनात्मक संबंध और विश्वास स्थापित करने के उद्देश्य से किया जाता  है। यह एक ऐसा कार्य है जहाँ पर शिकारी ऑनलाइन बच्चे को निशाना बनाता है, एक आभासी संबंध बनाता है, बच्चे का विश्वास हासिल करता है और यौन और मानसिक शोषण करता है और कुछ मामलों में बच्चे को उसके शरीर पर नुकसान पहुँचाने के लिए मजबूर करता है और कभी कभी आत्महत्या करने को मजबूर करता है और बच्चे को ऐसी स्थिति में लाता है जहाँ  मदद मांगना असंभव होता है।

हादसा:

एक 15 साल की लड़की का नाम एमी (वास्तविक नाम नहीं) को उसके सहपाठि उसे परेशां करते थे जिसके कारण  उसका कोई दोस्त नहीं बना सका। वह अकेली थी और स्कूलों में लगातार परेशां होने के कारण उसे अन्य लोगों के साथ घुलना मिलना अच्छा नहीं लगता था । उसने कुछ ऑनलाइन  दोस्त बनाने के लिए सोशल नेटवर्किंग साइट का उपयोग करना शुरू कर दिया। बहुत जल्दी समय में उसके कई ऑनलाइन दोस्त बन गए। वह अजनबियों का भी  ऑनलाइन फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार करती थी। उसके दोस्तों में से एक 15 वर्षीय लड़की जो  बहुत ही देखभाल करने वाली, मिलनसार और हसमुख थी। एमी अपनी सारी चिंताओं को उसके साथ साझा करना शुरू कर दिया और दोनों बहुत गहरे  दोस्त बन गए । जल्द ही दोनों ने एक दूसरे की तस्वीरों का आदान-प्रदान शुरू कर दिया। कुछ दिनों के बाद दोनों ने अपनी ’टॉपलेस तस्वीरें भी साझा करने लगी। जल्द ही, उसके नए दोस्त ने उसे व्यक्तिगत रूप से मिलने को कहा लेकिन एमी ने मना कर दिआ। एमी के मना करने पर उसके नए दोस्त ने  ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया और धमकी दी कि अगर वह नहीं मिलती है, तो उसकी नग्न तस्वीरें फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर पोस्ट की जाएंगी। दो दिनों के बाद, उसने अपने नाम और तस्वीर के साथ फेसबुक पर अपनी तस्वीर पाई। शुक्र है, उसने अपनी माँ के साथ यह सारा मामला  साझा किया। जल्द ही उसके माता-पिता ने पुलिस को मामले की सूचना दी। जांच के दौरान यह पाया गया कि एमी की नयी  दोस्त एक लड़की नहीं थी, यह वास्तव में एक मध्यम आयु वर्ग का व्यक्ति था जिसने 15 साल की लड़की की फर्जी प्रोफाइल बनाई थी और उसके पोस्ट और प्रोफाइल में कुछ अज्ञात लड़की की तस्वीर को जोड़ा था। एमी भाग्यशाली थी और एमी को किसी और नुकसान से पहले उस बदमाश को  पकड़ लिया  गया । लेकिन ऐसी सैकड़ों घटनाएं हैं जिनमें बच्चे अपने आपको ऐसे बदमाशों के चंगुल से नहीं बचा पाए  और शर्म के कारण आत्महत्या कर ली या शोषण के लिए आत्मसमर्पण कर दिया।

 

पीड़ितों की गवाही:

 

 

साइबर ग्रूमिंग  के चरण:

साइबर ग्रूमिंग चरणों में होती है जब एक चरण पूरा हो जाता है साइबर शिकारी अगले चरण पर जाता है और पीड़ित को तब तक बरगलाता रहता है जब तक कि अंतिम चरण पूरा नहीं हो जाता है जो अंततः पीड़ित का शोषण है। संवारने के चरण निम्नानुसार हैं:

चरण 1: जुड़ना:

  • शिकारी नकली प्रोफाइल बनाता है
  • ऑनलाइन प्रोफ़ाइल या चैट से पीड़ित की जानकारी एकत्र करता है
  • फर्जी प्रोफाइल से पीड़ित को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजता है
  • दोस्ताना बातचीत शुरू करता है
  • व्यवस्थित रूप से सामान्य हितों का ढोंग करता है

 

चरण  2: विश्वास  की स्थापना

  • विश्वास का विकास करता है
  • संघर्ष के संबंध में बच्चे के दृष्टिकोण का समर्थन करता है
  • परिवार, स्कूल, या दोस्त से मतभेद होने पर उसका समर्थन करता है
  • विश्वाश दिलाता है  की वह एकमात्र व्यक्ति है जो बच्चे को समझता है
  • एक आईएम या चैट दोस्त बन जाता है

 

चरण 3: गोपनीयता स्थापित करना

  • गोपनीयता स्थापित करता है
  • ईमेल पते या फोन नंबर का आदान प्रदान करता है
  • माता-पिता को बिना बताये हुए गुप्त ईमेल का उपयोग करता है
  • वयस्क-उन्मुख सामग्री और भाषा का उपयोग करता है

 

चरण 4: शर्म को हटाता है

  • बाधाओं को दूर हटाता है
  • बार-बार वयस्क उन्मुख बातचीत करता है
  • बच्चे को अश्लील चित्र भेजना
  • बच्चे को समझाना की ये सामान्य है और हर कोई इस तरह की बातें करता है
  • बच्चे के वयस्क "अनुभवों" को प्रोत्साहित करना
  • प्राकृतिक जिज्ञासा का शोषण करना
  • व्यक्तिगत निषेध ख़तम करना

 

चरण 5: प्रत्यक्ष धमकी

  • माता-पिता से बच्चे की भावनात्मक दूरी बढ़ जाना
  • आसानी से ब्लैकमेल किया जा सकता है
  • हिंसा या सार्वजनिक अपमान की धमकी
  • बच्चा तेजी से शक्तिहीन महसूस करता है

 

अंतिम चरण: शिकार करना

  • आमने सामने बैठक
  • शिकारी का अंतिम लक्ष्य पूरा होता है
  • सभी शिकारी पूरे ग्रूमिंग की प्रक्रिया का उपयोग नहीं करते हैं
  • पीड़ित स्वेच्छा से शिकारी से मिलता है

 

ग्रूमिंग  के संकेत:

ग्रूमिंग  एक परिदृश्य में वर्गीकृत नहीं किया जा सकता है । ग्रूमिंग प्रक्रिया और तरीके अलग अलग  हैं। पूरी प्रक्रिया पीड़ित की सामाजिक और मानसिक स्थिति, उसके परिवार के माहौल पर निर्भर करती है। पीड़ित की स्थितियों का आकलन करने के बाद साइबर शिकारी अपनी शर्त रखता है। एक बात हमें जाननी चाहिए कि ये शिकारी अपनी पहचान छिपाने में बहुत ही धोखेबाज और बड़े झूठे होते हैं। हालांकि, कुछ सबसे आम संकेत हैं जो किसी भी व्यक्ति को यह जानने के लिए सचेत कर सकते हैं कि क्या उसे ग्रूम किया जा रहा है  :

  • नया दोस्त या अनजान व्यक्ति आपको बहुत सारे संदेश भेज रहा है
  • उसके साथ बातचीत को गुप्त रखने के लिए कह रहा है
  • आपको अपनी व्यक्तिगत जानकारी साझा करने के लिए कह रहा है
  • आपको अपनी अवांछित तस्वीरें भेजने के लिए कह रहा है
  • आपको अकेले मिलने के लिए कह रहा है
  • आपको उपहार रहा है
  • दुनिया और अपने माता-पिता और परिवार के बारे में नकारात्मक बातें बता रहा है
  • वह दिखा रहा है / वह आपका एकमात्र शुभचिंतक है
  • यदि आप उसके निर्देश का पालन नहीं करते हैं, तो आपको ब्लैकमेल करना शुरू कर देता है

 

बच्चों पर ग्रूमिंग  के प्रभाव:

एक बच्चे पर ग्रूमिंग  का प्रभाव विनाशकारी होता है। कई बच्चे मनोवैज्ञानिक रूप से पीड़ित हो जाते है   और उन्हें स्वाभिक जीवन जीने में कठनाई होती है । पीड़ितों पर सबसे आम प्रभाव हैं:

  • जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में असुरक्षा की भावना विकसित करना चाहे वह अध्ययन हो या उनका अपना निजी जीवन
  • पीड़ित पर नकारात्मक प्रभाव एक दीर्घकालिक हो सकता है या जीवन भर बना रह सकता है
  • पीड़ित को उल्लंघन और विश्वासघात महसूस हो सकता है
  • पीड़ित दुर्व्यवहार के लिए जिम्मेदार महसूस कर सकता है जो आत्म-दोष और कम आत्म-सम्मान का कारण बन सकता है
  • कुछ घटनाओं में पीड़ितों ने अपनी जान गंवा दी
  • ग्रूमिंग न केवल बच्चे, बल्कि परिवार और समुदाय के अन्य सदस्यों को भी प्रभाबित करता है । ग्रूमिंग  के कारण पूरा परिवार प्रभावित हो सकता है

 

बच्चों के लिए सुरक्षा मंत्र:

  • केवल उन ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म और सोशल मीडिया का उपयोग करें जिनके बारे में आपके माता-पिता और दोस्त जानते हैं और आपकी मित्र सूची में जोड़े गए हैं।
  • यदि आपको कुछ भी असहज लगता है, तो अपने माता-पिता, भाई, शिक्षक या अपने अभिभावक को बताने में संकोच न करें
  • किसी भी अनजान व्यक्ति से कभी भी फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार न करें।
  • कभी भी अपनी व्यक्तिगत जानकारी और तस्वीर ऑनलाइन साझा न करें
  • सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीर को टैग करते हुए सावधान रहें
  • अजनबियों और जिस व्यक्ति से आपकी मुलाकात होती है, उसे किसी भी उपहार या कूपन को कभी भी वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर स्वीकार न करें
  • कभी भी अपनी व्यक्तिगत जानकारी सोशल मीडिया पर न डालें।

 

ग्रूमिंग से बच्चों को बचने के लिए माता-पिता को  सुझाव:

  • अपने बच्चों के साथ कम से कम एक वक़्त साथ में भोजन करें
  • व्यवहार में उनके परिवर्तन का निरीक्षण करें - स्वाद और भूख में कमी, अकेलापन, स्कूल में गिरते प्रदर्शन आदि।
  • बच्चों का सामना करने के लिए, उनके अनुकूल रहें और उन्हें अपनी समस्याओं को साझा करने के लिए जगह दें।
  • बच्चों के साथ संवारने की घटनाओं को साझा करें और उन्हें संरक्षण मंत्र साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें। आखिरकार वे अपनी पुरानी पीढ़ियों की तुलना में अधिक तकनीक-प्रेमी हैं।
  • बच्चों के साथ चर्चा के बाद इंटरनेट समय के बारे में कुछ अनुशासन स्थापित करें और किसी भी विचलन पर नज़र रखें।

 

निष्कर्ष

साइबर ग्रूमिंग विशेष रूप से इंटरनेट पर सर्फ करने वाले बच्चों के लिए एक वास्तविक खतरा है। पीड़ितों में आघात की तीव्रता इतनी अधिक है कि उनमें से अधिकांश आत्महत्या कर लेते हैं। हमारे लिए यह आवश्यक है कि हम इसे साइबर दुनिया की एक बड़ी बुराई के रूप में पहचानें और सामूहिक रूप से इसका मुकाबला करें। संरक्षण मंत्र, बच्चों के साथ नियमित रूप से चर्चा करने के लिए घर पर काम करने के तरीके और एक दोस्ताना माहौल की हमारी समझ में निहित है।

 

WeSeSo एक गैर-लाभकारी संगठन है जो परिवर्तन के एजेंट के रूप में छात्रों के साथ समाज की साइबर सुरक्षा के लिए काम करता है।

 

साइबर सुरक्षा के बारे में अधिक जानने के लिए विभिन्न स्कूलों के छात्रों द्वारा लिखे गए WeSeSo ब्लॉग पढ़ें। आप भी ब्लॉग लिख सकते हैं और विभिन्न ज्ञान साझाकरण चर्चा में भाग ले सकते हैं। शामिल होने के लिए, आपको पहले साइबर योद्धा बनने और बड़े समुदाय का हिस्सा बनने की आवश्यकता है जो साइबर अपराध से परिवार, दोस्तों और समाज को सुरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

साइबर योध्या कैसे बने, जानने के लिए इस लिंक पर जाएँ : https://weseso.org/how-to-become-a-cyber-warrior/

0 1