Blog

Be Aware of Cyber Stalking..know the protection mantra!

In real world, stalking (the act of following a particular person for a long time with an intention of harming) is a common phenomenon. But in cyber world, it is more dangerous as the stalker is invisible. Read this article to understand the modus operandi of the stalker and the protection mantra.

 

Contributors:

  • Nikhil, 8th, DAV public school, Jasola Vihar, New Delhi
  • Apeksha Maurya, 8th DAV public school, Jasola Vihar, New Delhi
  • Rashi Gupta,8th DAV public school Jasola Vihar, New Delhi
  • Manashvi verma, 6th, Mount Litera Zee School
  • Ansh Kumar Singh, 6th, Navy Children School, Karwar
  • Shruti Kumari, 9th, DAV Public School Jasola Vihar

 

The Incident

Priya (name changed) was continuously receiving disturbingly messages on her phone. After some time, request for meeting was received on her mobile phone. This was going on for quite some time even though she had replied that she was not interested in meeting the stalker. Over past few days, this stalker started sending her morphed photographs with threat of posting them in social media if she refused to meet her. These messages had stunned her. Frightened, she discussed it with her parents. Soon her family members complained to the police.
After investigation police found that the man had located Priya on public Facebook profiles. As her privacy settings was not enough to protect the account, her personal details like the phone number and email addresses was stolen and used by the culprit. The man used her photos and morphed them to threaten her and blackmail her.

 

Introduction:

The cyber world is a unique place. The moment we connect to cyber world, especially social media our identity and personal information becomes public. It is important for all the online users to be aware about this since such information can be used for cyber stalking. In recent time the cases of cyber stalking have increased tremendously and anyone from celebrity to common peoples can become victim of it. As stalkers always chose their targets due to some specific reason which may range from a broken relationship or be driven by the obsession of the stalker or even to conduct some fraud. Cyber stalking can happen in many ways and can last for weeks, months and even years.

 

What is Cyber Stalking?

Cyber stalking is a repeated unwanted communications and contacts with a victim that can cause apprehension or fear to victim. In most cases stalkers make unwanted and deliberate communications using telephone calls, emails, text messages, posts on social networking sites, and letters. In some cases, stalkers also send unsolicited materials, such as gifts or items that cause fear and threat to victim.

 

Intention of Stalker:

  • Exploit victim for money, personal gain or harassment
  • Seeking an obsessed romantic attachment
  • Trying to reconcile after breakup with victim
  • Seeking revenge after break-up
  • Force victim to act according to criminal’s instruction
  • Delusional or imaginary attachment to the victim, be it romantic or belonginess
  • Revenge against perceived or actual injustices
  • Hate or intolerance towards a specific group
  • Random attacks – the victim being in the wrong place at the wrong time

 

How Cyber Stalking is done?

Cyber stalking done through online medium. Stalker does a profiling about the victim and gain almost all the information which is used for stalking. This information includes name, address, daily routine, victim’s images and some cases victim’s social media account password. After having all the information about the victim, stalkers may do all or few of the actions mentioned below:

  • Send vulgar greeting cards to victim
  • Creating websites about the victim
  • Posting photos online of victim
  • Gain controls of victim’s computer with viruses or excessive spamming
  • Install Trojans to track online activities of victim
  • Record victim’s online history and confidential information including passwords
  • Sending threatening, harassing or obscene messages to the victim’s friends, family

 

Consequences of cyber stalking on victim:

  • Cyberstalking could affect the victim's mental health and well-being
  • Due to cyberstalking the victim experiences depression and stress
  • Confusion about the situation, self-doubt and frustration, guilt, embarrassment
  • Apprehension, fear, terror of being alone and being attacked any time
  • Anxiety, panic attacks, agoraphobia (frightened to leave the house, never feeling safe)
  • Difficulty in concentrating, attending and remembering things
  • Lack of sleep and nightmares
  • Getting Irritated, angry and have homicidal thoughts
  • Insecurity and inability to trust others
  • Personality changes due to becoming more suspicious, introverted or aggressive
  • Develop suicidal thoughts

 

How do you know that you are being stalked?

The most obvious sign of cyber stalking is repeated contact by a person with the victim through any medium of communication even after victim’s refusal to have any further communication. If you find any one of the situations below you can understand that you are being stalked:

  • Getting unwanted messaged on your phone, WhatsApp, email or any social media site
  • If you find some unknown is commenting on all your post and following you every where
  • An unknown person is following your friends and family’s accounts
  • The person is available at all the places where you are posting
  • Sending in-appropriate online messages about you
  • Trying to disconnect you from your friends and family
  • Sharing your morphed picture.

 

Protection Mantra:

There are a number of simple ways to guard against cyber stalking:

  • Set up two factor authentications for your accounts (This will reduce chances of your account being hacked by the stalker)
  • Don’t share your contact details in social media ( Better to stay anonymous rather than having an identifiable online presence)
  • Use your primary e-mail account only for communicating with people you trust (set up an different e-mail account for exposure on social media)
  • Don't put any identifying details in online profiles (Avoid posting pictures, tagging them)
  • Remove embedded information from photographs (To hide date and location of clicking them)
  • Make privacy setting strong of your online accounts including social media, mobile and email. (To ensure that your information is visible to your friends only and not to public)
  • Disable location tracking on your mobile, enable it when it is necessary (To avoid revealing your real time location)
  • Never handover your mobile to anyone (To avoid dropping of tracking malware)
  • If you find anyone the activities are happening with you, you must inform your parents and guardian.

 

Weseso is a non-profit organization which works for cyber safety of the society with students as agents of change.

To learn more about cyber security read weseso blogs, written by students from different schools. You can also write blogs and take part in various knowledge sharing discussion. To get involved, you first need to become a cyber warrior and become a part of larger community who are committed to secure family, friends and society from cyber crime.
To know how to become a cyber warrior, click the link: https://weseso.org/how-to-become-a-cyber-warrior/

0 1

साइबर स्टैकिंग से सावधान रहें..जानिए रक्षा मंत्र!

वास्तविक दुनिया में, पीछा करना (नुकसान पहुंचाने के इरादे से किसी विशेष व्यक्ति का लंबे समय तक पीछा करने की क्रिया) एक सामान्य घटना है। लेकिन साइबर दुनिया में, यह अधिक खतरनाक है क्योंकि स्टाकर अदृश्य है। स्टाकर के तौर-तरीके और सुरक्षा मंत्र को समझने के लिए इस लेख को पढ़ें।

योगदान:

  • निखिल, 8 वीं, डीएवी पब्लिक स्कूल, जसोला विहार, नई दिल्ली
  • अपेक्षा मौर्य, 8 वीं, डीएवी पब्लिक स्कूल, जसोला विहार, नई दिल्ली
  • राशी गुप्ता, 8 वीं डीएवी पब्लिक स्कूल जसोला विहार, नई दिल्ली
  • मनस्वी वर्मा, 6 वीं, माउंट लिटेरा ज़ी स्कूल
  • अंश कुमार सिंह, 6 वीं, नेवी चिल्ड्रन स्कूल, करवार
  • श्रुति कुमारी, 9 वीं, डीएवी पब्लिक स्कूल जसोला विहार

 

साइबर स्टैकिंग क्या है?

साइबर प्लेटफार्म पर किसी का पीछा करना एक अपराध है जिसमे अपराधी बार-बार अवांछित तरीके से किसी भी संचार और सोशल मीडिया के माध्यम से एक पीड़ित से संपर्क करता है जो पीड़ित में आशंका या भय पैदा कर सकता है । ज्यादातर मामलों में स्टाकर टेलीफोन कॉल, ईमेल, टेक्स्ट मैसेज, सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर पोस्ट और पत्रों का उपयोग अवांछित तरीके से करता हैं। कुछ मामलों में, स्टाकर अवांछित सामग्री भी भेजते हैं, जैसे कि कोई  उपहार जो डर और पीड़ित के लिए खतरा पैदा करता हैं।

 

घटना:

प्रिया (बदला हुआ नाम) को लगातार उसके फोन पर अशोभनीय संदेश मिल रहे थे। कुछ समय बाद, उसके मोबाइल फोन पर मिलने का अनुरोध प्राप्त हुआ। यह काफी समय से चल रहा था, हालांकि उसने जवाब दिया था कि वह स्टाल्कर  से मिलने में कोई दिलचस्पी नहीं है। पिछले कुछ दिनों से,  इस स्टाल्कर  ने प्रिया की कुछ तस्वीरों को अश्लील तस्वीरों में बदल दिआ और उसे सोशल मीडिया पे डालने की धमकी देने लगा ।  इन संदेशों ने उसे स्तब्ध कर दिया था। भयभीत होकर उसने अपने माता-पिता से इस पर चर्चा की। जल्द ही उसके परिवार वालों ने पुलिस में शिकायत की।

जांच के बाद पुलिस ने पाया कि उस व्यक्ति ने प्रिया को सार्वजनिक फेसबुक प्रोफाइल पर देखा था। चूंकि उसकी गोपनीयता सेटिंग खाते की सुरक्षा के लिए पर्याप्त नहीं थी, इसलिए अपराधी द्वारा उसके व्यक्तिगत विवरण जैसे फोन नंबर और ईमेल पते चुराए गए और उपयोग किए गए। शख्स ने उसकी तस्वीरों का इस्तेमाल किया और उसे डराने और ब्लैकमेल करने के लिए उसे मॉर्फ किया।

 

साइबर स्टाकर की कार्य-प्रणाली:

  • पैसे, व्यक्तिगत लाभ या उत्पीड़न के लिए
  • एक जुनूनी रोमांटिक लगाव की तलाश
  • पीड़ित के साथ ब्रेकअप के बाद सुलह करने की कोशिश करना
  • ब्रेक-अप के बाद बदला लेना
  • पीड़ित को आपराधिक निर्देश के अनुसार कार्य करने के लिए मजबूर करना
  • पीड़ित के लिए भ्रम या काल्पनिक लगाव, यह रोमांटिक या उदासीनता
  • कथित या वास्तविक अन्याय के खिलाफ बदला
  • किसी विशिष्ट समूह के प्रति घृणा या असहिष्णुता
  • पीड़ित व्यक्ति का गलत समय पर गलत जगह पर होना

 

साइबर स्टैकिंग कैसे किया जाता है?

साइबर स्टेकिंग ज्यादातर ऑनलाइन माध्यम से किया जाता है। स्टाकर पीड़ित के बारे में एक रूपरेखा  तैय्यार  करता है और लगभग सभी जानकारी प्राप्त करता है जो कि पीछा करने के लिए उपयोग  होती  है। इस जानकारी में नाम, पता, दैनिक दिनचर्या, पीड़ितों के चित्र और कुछ मामले पीड़ित के सोशल मीडिया अकाउंट पासवर्ड शामिल हैं। पीड़ित के बारे में पूरी जानकारी एकत्रित करने के बाद, स्टाकर नीचे उल्लिखित सभी या कुछ कार्य कर सकता है:

  • पीड़ित को अश्लील ग्रीटिंग कार्ड भेजना
  • पीड़ित के बारे में वेबसाइट बनाना
  • पीड़ित की तस्वीरें ऑनलाइन पोस्ट करना
  • वायरस या अत्यधिक स्पैमिंग के साथ पीड़ित के कंप्यूटर का नियंत्रण प्राप्त करना
  • शिकार की ऑनलाइन गतिविधियों को ट्रैक करने के लिए ट्रोजन स्थापित करना
  • पीड़ित का ऑनलाइन इतिहास और पासवर्ड सहित गोपनीय जानकारी हासिल करना
  • पीड़ित के दोस्तों, परिवार को धमकी भरे संदेश भेजना, परेशान करना या अश्लील संदेश भेजना

 

पीड़ित पर साइबर स्टाकिंग  के परिणाम:

  • साइबर स्टॉकिंग पीड़ित के मानसिक स्वास्थ्य को विपरीत रूप से प्रभावित कर सकती है
  • साइबर स्टॉकिंग के कारण पीड़ित को अवसाद और तनाव का अनुभव हो सकता है
  • स्थिति, आत्म-संदेह और हताशा, अपराधबोध, शर्मिंदगी के बारे में भ्रम होता है
  • आशंका, भय, अकेले होने का आतंक और किसी भी समय हमला के आकांशा होती है
  • चिंता, घबराहट के दौरे, एगोराफोबिया (घर छोड़ने के लिए भयभीत, कभी सुरक्षित महसूस नहीं करना)
  • चीजों को एकाग्र करने, ध्यान देने और याद रखने में कठिनाई होना
  • नींद न आना और बुरे सपने आना
  • चिड़चिड़ाहट, गुस्सा आना और मरने मरना का विचारों का होना
  • असुरक्षा और दूसरों पर भरोसा करने में असमर्थता
  • अधिक संदिग्ध, अंतर्मुखी या आक्रामक बनने के कारण व्यक्तित्व बदल जाता है
  • आत्मघाती विचार विकसित होना

 

आप कैसे जानेगे कि आप साइबर स्टाकिंग के शिकार हो रहें है?

साइबर स्टाकिंग का सबसे स्पष्ट संकेत जब कोई पीड़ित व्यक्ति के मना करने के बाद भी कोई व्यक्ति बार बार  किसी भी माध्यम से  संपर्क करने की कोशिश करता है। यदि आप नीचे दी गई स्थितियों में से किसी एक को पाते हैं, तो आप समझ सकते हैं कि आप स्टाकिंग के शिकार रहे हैं:

  • अपने फोन, व्हाट्सएप, ईमेल या किसी भी सोशल मीडिया साइट पर अवांछित मैसेज आ रहा हो
  • यदि आपको लगता है कि कोई अज्ञात व्यक्ति आपके सभी पोस्ट पर टिप्पणी कर रहा है और आपका  हर जगह पीछा कर रहा है
  • एक अज्ञात व्यक्ति आपके मित्रों और परिवार के ऑनलाइन पोस्ट का अनुसरण कर रहा है
  • व्यक्ति उन सभी स्थानों पर उपलब्ध है जहाँ आप पोस्ट कर रहे हैं
  • आपके बारे में गलत बाते ऑनलाइन  भेजता है
  • अपने दोस्तों और परिवार से आपको अलग करने की कोशिश करता है
  • आपकी अशोभनीय चित्र को भेजता है

 

यदि आप पाते हैं कि आपके  साथ ऊपर लिखित कोई भी गतिविधि हो रही है, तो आपको अपने माता-पिता और अभिभावक को सूचित करना चाहिए।

 

सुरक्षा मंत्र:

साइबर स्टैकिंग से बचाव के कई सरल तरीके हैं:

  •  अपने खातों के लिए दो कारक प्रमाणीकरण स्थापित करें (यह आपके खाते की संभावना कम हो जाएगी जो कि स्टाकर द्वारा हैक किया जा रहा है)
  • सोशल मीडिया में अपने संपर्क विवरण साझा न करें (पहचान योग्य ऑनलाइन उपस्थिति के बजाय अनाम रहना बेहतर है)
  • अपने प्राथमिक ई-मेल खाते का उपयोग केवल उन लोगों के साथ संवाद करने के लिए करें जिन पर आप भरोसा करते हैं (सोशल मीडिया पर एक्सपोज़र के लिए एक अलग ई-मेल खाता सेट करें)
  • ऑनलाइन प्रोफाइल में कोई भी पहचान का विवरण न रखें (चित्रों को पोस्ट करने से बचें, उन्हें टैग करें)
  • तस्वीरों से जानकारी निकालें (तिथि और उन्हें क्लिक करने का स्थान छिपाने के लिए)
  • सोशल मीडिया, मोबाइल और ईमेल सहित अपने ऑनलाइन खातों की गोपनीयता सेटिंग मजबूत करें। (यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपकी जानकारी केवल आपके दोस्तों को दिखाई दे रही है और सार्वजनिक नहीं)
  • अपने मोबाइल पर स्थान ट्रैकिंग अक्षम करें, जब यह आवश्यक हो तो इसे सक्षम करें (अपने वास्तविक समय के स्थान का खुलासा करने से बचने के लिए)
  • अपने मोबाइल को कभी भी किसी को न सौंपें (मालवेयर ट्रैकिंग से बचने के लिए)
  • यदि आप पाते हैं कि आपके साथ कोई भी गतिविधि हो रही है, तो आपको अपने माता-पिता और अभिभावक को सूचित करना चाहिए।

 

WeSeSo एक गैर-लाभकारी संगठन है जो परिवर्तन के एजेंट के रूप में छात्रों के साथ समाज की साइबर सुरक्षा के लिए काम करता है।

 

साइबर सुरक्षा के बारे में अधिक जानने के लिए विभिन्न स्कूलों के छात्रों द्वारा लिखे गए WeSeSo ब्लॉग पढ़ें। आप भी ब्लॉग लिख सकते हैं और विभिन्न ज्ञान साझाकरण चर्चा में भाग ले सकते हैं। शामिल होने के लिए, आपको पहले साइबर योद्धा बनने और बड़े समुदाय का हिस्सा बनने की आवश्यकता है जो साइबर अपराध से परिवार, दोस्तों और समाज को सुरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

साइबर योध्या कैसे बने, जानने के लिए इस लिंक पर जाएँ : https://weseso.org/how-to-become-a-cyber-warrior/

0 1